Nature के पास

निकले हम बिच जंगल से

कही थे पर्वत, कही जाड़ी गिच

कही वो मौसी माथे पे उठाये घास की गठरी।

कही वो सड़क किनारे पेड़ से बंधी गाय,

तो कही अपनी मौज में बीच राह बैठा वो कुत्ता।

कही बकरी को चराते वो माजी

कही दर्शन करने चलते हुए निकले भक्त।

कही वो माँ की गोद में खेलता बच्चा

वो जंगल था और जंगल में मंगल।

थे वहा खेत खलिहान और थी शाला भी।

बच्चो के लिए खिलौने से भरा बाजार भी था

Advertisements

2 Comments Add yours

  1. neha98blog says:

    There is always an inexplicable delight I get while reading your post.
    keep penning.

    Liked by 1 person

    1. D!vY@ng Sh@h says:

      And it’s inexplicable motivation comes with your every comment and every like.. Thank you Neha 😊

      Like

Leave a Reply to neha98blog Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s